Homeराजनीतियोगी के खिलाफ उतरे चंद्रशेखर के पास पत्नी से कम संपत्ति,मां के...

योगी के खिलाफ उतरे चंद्रशेखर के पास पत्नी से कम संपत्ति,मां के नाम 15 लाख का मकान |

योगी के खिलाफ क्यों उतरे हैं चंद्रशेखर

चुनाव में गठबंधन को लेकर चंद्रशेखर आजाद की समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से बातचीत चल रही थी. हालांकि, बात नतीजे तक नहीं पहुंच पाई और गठबंधन नहीं हो सका. चंद्रशेखर पश्चिमी यूपी के नेता हैं, लेकिन पूर्वांचल जाकर योगी के खिलाफ चुनाव लड़े रहे हैं. इसकी एक बड़ी वजह गोरखपुर शहर के जातिगत आंकड़े हैं.करीब 4 लाख से ज्यादा वोटर्स वाली इस सीट पर 40-40 हजार कायस्थ और निषाद वोटर हैं. दलित वोटरों की संख्या 50 हजार के आसपास है. मुस्लिमवोटर भी 45 हजार के करीब हैं. इसके अलावा 25 हजार से ज्यादा कुर्मी वोटर भी हैं. – माना जा रहा है कि पिछड़े,दलित और मुसलमान वोटर की संख्या देखकर ही चंद्रशेखर आजाद ने सीएम योगी के खिलाफ मैदान में उतरने का मन बनाया है.

क्या है इस सीट का इतिहास?

गोरखपुर शहर सीट को भगवा का गढ़ भी कहा जाता है. वो इसलिए क्योंकि 1977 से अब तक यहां सिर्फ 4 बार ही ऐसा हुआ जब कोई गैर भाजपाई यहां से विधायक बना है. उसमें भी एक बार तो अखिल भारतीय हिंदू महासभा को जीत मिली है.यहां से 1977 में जनता पार्टी के अवधेश कुमार श्रीवास्तव, 1980 में इंदिरा कांग्रेस और 1985 में कांग्रेस के टिकट पर सुनील शास्त्री विधायक चुने घए थे. 1989 के विधानसभा चुनाव से ही इस सीट पर भगवा लहरा रहा है. 1989, 1991, 1993 और 1996 में लगातार चार बार इस सीट से बीजेपी केशिवप्रताप शुक्ला विधायक चुने गए.यहां से 2002 में अखिल भारतीय हिंदू महासभा के डॉक्टर राधा मोहन दास अग्रवाल पहली बार विधायक चुने गए. राधा मोहन दास अग्रवाल बाद में बीजेपी में शामिल होगए. 2007, 2012 और 2017 में भी राधा मोहन दास यहां से चुने गए.

Chandrashekhar Azad UP Election:

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद भी मैदान में हैं.वो सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) के खिलाफ गोरखपुर शहर (Gorakhpur Urban) से चुनाव लड़ रहे हैं.चंद्रशेखर रावण अपनी आजाद समाज पार्टी के उम्मीदवार हैं. चंद्रशेखर ने मंगलवार को विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन दाखिल कर दिया. इसमें उन्होंने बताया है कि उनके ऊपर 17 आपराधिक मामले दर्ज हैं. दाखिल हलफनामे के मुताबिक, 34 साल के चंद्रशेखर ने 2012 में गढ़वाल यूनिवर्सिटी से एलएलबी की पढ़ाई पूरी की थी. एफिडेविट में उन्होंने अपनीसंपत्ति का ब्योरा भी दिया है. इसमें उन्होंने बताया है कि उनके पास कुल 44 लाख रुपये से ज्यादा की संपत्ति है. हालांकि, इसमें से 23 लाख से ज्यादाकी संपत्ति उनकी पत्नी वंदना कुमारी के पास है. वहीं, उनकी मां कमलेश के नाम 15 लाख का मकान है. चंद्रशेखर का एक 4 महीने का बेटा भी है जिसका नाम युग है.

चंद्रशेखर से ज्यादा पत्नी के पास संपत्ति

दायर हलफनामे में चंद्रशेखर ने बताया है कि उनके पास 18 हजार और उनकी पत्नी के पास 12 हजार रुपये की नकदी है. चंद्रशेखर का एक ही बैंक अकाउंट है जिसमें 26,369 रुपये जमा हैं. उनकी पत्नी के नाम दो अकाउंट्स हैं. एक अकाउंट्स में 84 हजार तो दूसरे में 3.10 लाख से ज्यादा की रकम जमा है.चंद्रशेखर के पास 40 ग्राम सोना है, जिसकी कीमत 1.96 लाख रुपये है. जबकि उनकी पत्नी के पास 400 ग्राम के गहने हैं, जिनका मूल्य 19.60 लाख रुपये है.उनके पास 0.2 एकड़ की खेती की जमीन है. इसकी कीमत 3 लाख रुपये बताई गई है. उनकी मां कमलेश के नाम छुटमलपुर में 1 हजार वर्ग फीट का एक मकान हैजिसकी कीम 15 लाख रुपये है. चंद्रशेखर ने अपने ऊपर कर्ज न होने की बात कही है.|

संबंधित आलेख

सबसे लोकप्रिय