Header Ads Widget

दयालु और हमेशा दूसरों की मदद करना/Hindi stories latest

 एक बार एमिली नाम की एक जवान लड़की थी। वह दयालु, दयालु और हमेशा दूसरों की मदद करने के लिए उत्सुक थी। एक दिन जब वह स्कूल से घर जा रही थी तो उसने देखा कि एक बूढ़ा आदमी सड़क के किनारे बैठा है। वह थका हुआ और उदास दिख रहा था, इसलिए एमिली उसके पास यह देखने के लिए गई कि क्या उसे किसी मदद की ज़रूरत है।

बूढ़े ने उसे बताया कि वह रास्ता भटक गया है और घर जाने की कोशिश कर रहा है। एमिली ने उसके साथ चलने और उसे उसके घर वापस लाने में मदद करने की पेशकश की। जब वे चल रहे थे, बूढ़े व्यक्ति ने उसे अपने जीवन के बारे में बताया और बताया कि कैसे वह अपने जीवन का अधिकांश समय उसी छोटे शहर में रहा। उन्होंने अपनी पत्नी के बारे में बात की जिनका निधन हो गया था और कैसे उन्होंने उन्हें बहुत याद किया।


एमिली ने धैर्यपूर्वक और बड़े दिल से सुना, वह समझ गई कि बूढ़ा आदमी कितना अकेला था, उसने पेशकश की कि जब भी उसके पास खाली समय हो तो रुको और उससे मिलो। वह उसकी उदारता से प्रभावित हुए और उन्होंने फोन नंबरों का आदान-प्रदान किया।


उस दिन से एमिली हर हफ्ते बूढ़े आदमी से मिलने जाती थी। वे बैठकर बातें करते, कभी शतरंज खेलते या साथ में कहानियाँ पढ़ते। बूढ़े आदमी का चेहरा हर बार जब वह एमिली को देखता तो चमक उठता, वह उसके एकाकी दिनों में खुशी लाती थी।


एक दिन बूढ़ा आदमी बहुत बीमार हो गया और अपने घर से निकलने में असमर्थ हो गया। एमिली जानती थी कि उसे उसकी मदद करने के लिए कुछ करना होगा। उसने अपने दोस्तों को ललकारा और साथ में उन्होंने बूढ़े व्यक्ति के चिकित्सा खर्च के लिए पैसे जुटाने के लिए एक लाभ संगीत कार्यक्रम का आयोजन किया।


संगीत कार्यक्रम एक बड़ी सफलता थी, और वे बूढ़े व्यक्ति के चिकित्सा बिलों का भुगतान करने के लिए पर्याप्त धन जुटाने में सक्षम थे। एमिली की दयालुता का निःस्वार्थ कार्य समुदाय में सभी के दिलों को छू गया, और बूढ़ा उसकी दोस्ती के लिए हमेशा आभारी था।


एमिली की करुणा और उदारता ने बूढ़े आदमी के जीवन को बदल दिया, और उसकी कहानी पीढ़ी से पीढ़ी तक दयालुता की शक्ति की याद दिलाती रहेगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ